Up Board Class 10 English Our Indian Music : Stories and Anecdotes full solution

Our Indian Music : Stories and Anecdotes पाठ का अनुवाद और उस पर आधारित प्रश्न उत्तर

Up Board Class 10 English Our Indian Music : Stories and Anecdotes पाठ का अनुवाद

Read the following passages and answer the questions that follow:
[A] The history of Indian…………………………………….to bepurposeless.
Vocabulary:
history इतिहास
brimming with – से ओत-प्रोत
anecdotes अंतर्कथाएँ
origin – उत्पत्ति
fine arts-संगीत, चित्रकला आदि ललित कलाएँ
creator- सृष्टिकर्ता रचना
universe ब्रह्मांड
created- रचना की

enchanting आकर्षक
majestic–भव्य
thundering शोर करने वाला
water-falls–झरने
giant विशालकाय
nimble —चपल, द्रुत गति वाले
exquisite — बहुत सुंदर
splendour – भव्यता, वैभव
consort– पत्नी
charm-जादू, आकर्षण
showered—-बौछार की
sensitive-संवेदनशील
purposeless – निरर्थक, उद्देश्यहीन

हिंदी अनुवाद- भारतीय संगीत का इतिहास कथाओं और अंतर्कथाओं से ओत-प्रोत है। कारण यह है कि संगीत और अन्य ललित कलाओं की उत्पत्ति स्वयं में एक कहानी है। सृष्टिकर्ता ब्रह्मा ने इस ब्रह्मांड की रचना की। उन्होंने अनेक प्रकार की अद्भुत रूप से सुंदर और मोहक वस्तुओं की रचना की। उन्होंने शानदार पर्वत शृंखलाएँ, शोर करते झरने और विशालकाय जंगली-वृक्ष, चपल हिरन, बहुरंगे मोर और सुंदर पुष्प बनाए। उन्होंने अपनी सृष्टि को सुंदरता, आकर्षण और वैभव से भर दिया। लेकिन वे उदास थे। उनकी पत्नी सरस्वती ने उनकी उदासी का कारण पूछा। ब्रह्मा ने कहा, “यह सत्य है कि मैंने इस समस्त अद्भुत और मोहक सृष्टि की रचना की है और उसमें सर्वत्र सौंदर्य बिखेर दिया है लेकिन इसका क्या लाभ है? मेरे बच्चे, मानव आत्माएँ इनके समीप से गुजर जाते हैं, वे अपने चारों ओर फैली सुंदरता के प्रति संवेदनशील नहीं दिखाई देते। लगता है कि सारी सुंदरता उनके लिए व्यर्थ रही है, यह सृष्टि उद्देश्यहीन प्रतीत होती है।

Q1: What is the history of India filled with?
(भारत का इतिहास किससे भरा हुआ है?)
Ans: The history of India is filled stories and anecdotes.
(भारत का इतिहास कथाओं और अंतर्कथाओं से भरा है।)
Q2: What did Brahma create?
(ब्रह्मा ने क्या रचना की?)
Ans: Brahma created the universe.
(ब्रह्मा ने ब्रह्मांड की रचना की।)


Q3: Why was Brahma sad?
(ब्रह्मा दुःखी क्यों थे?)
Ans: Brahma was sad because his children, human souls did not take any interest in his beautiful creation.
(ब्रह्मा दुःखी थे क्योंकि उनके बच्चे, मानव आत्माएँ उनकी सुंदर रचना के प्रति संवेदनशील नहीं थे।)
Q4: Who is Saraswati? What did she ask Brahma?
(सरस्वती कौन हैं? उन्होंने ब्रह्मा से क्या पूछा?)
Ans: Saraswati is the consort of Brahma. She asked Brahma the reason of his sadness.
(सरस्वती ब्रह्मा की पत्नी हैं। उन्होंने ब्रह्मा से उनके दुःखी होने का कारण पूछा।)
Q5: Why did Brahma fill his creation with?
(ब्रह्मा ने अपनी सृष्टि को किससे भरा?)
Ans: Brahma filled his creation with beauty, charm and splendour.
(ब्रह्मा ने अपनी सृष्टि को सुंदरता, आकर्षण और ऐश्वर्य से भरा।)
Q6: Why did Brahma feel his creation to be purposeless?
(ब्रह्मा को अपनी सृष्टि उद्देश्यहीन क्यों लगी?)
Ans: Brahma felt his creation to be purposeless because his children, human souls did not seem to be
sensitive to the beauty around.
(ब्रह्मा को अपनी सृष्टि उद्देश्यहीन लगी क्योंकि उनके बच्चे, मानव आत्माएँ चारों ओर की सुंदरता के प्रति संवेदनशील प्रतीत नहीं होते थे।)

[B] Saraswatiunderstood………………………………. great moral.
Vocabulary:
understood समझ गई
share–हिस्सा
to appreciate —————–सराहना करना
uplifted—–ऊपर उठा हुआ
capacity ———-सामर्थ्य
wondrous —– आश्चर्यजनक
Muse – कला की देवी
Divine – दैवीय
manifestation – पार्थिव सृष्टि
moral – नैतिक


शिक्षा हिंदी अनुवाद- सरस्वती ने उनकी भावनाओं को समझा और उनसे कहा, “इस महान कार्य में मुझे अपना अंशदान करने दीजिए। आपने इस समस्त सौंदर्य और वैभव की रचना की है, मैं अपने बच्चों में उनसे प्रभावित होने, उनकी प्रशंसा करने तथा उनसे प्रेरित होकर ऊँचा उठने की क्षमता पैदा कर दूंगी। मैं उन्हें संगीत और अन्य कलाएँ दूँगी, जो उनके अंदर इस सारी सृष्टि के शानदार वैभव, असीम आकर्षण तथा अद्भुत सौंदर्य को पहचानने तथा प्रतिदान करने की क्षमता प्रदान करेंगे।” तब कला की अधिष्ठात्री देवी ने हम मानवों को संगीत तथा अन्य ललित-कलाएँ इस आशा के साथ दीं कि इनके द्वारा मनुष्य अपने संसार के दैवीय अंश को समझने लगेगा। विचित्र कहानी है न? हाँ, परंतु इसमें एक महान नैतिक शिक्षा भी है।


Q1: Who understood the feelings of Brahma?
(ब्रह्मा की भावनाओं को किसने समझा?)
Ans: Saraswati understood the feelings of Bahama.
(सरस्वती ने ब्रह्मा की भावनाओं को समझा।)
Q2: What did she decide to do to help Brahma?
(उन्होंने ब्रह्मा की सहायता करने के लिए क्या करने का निश्चय किया?)
Ans: To help Brahma, Saraswati decided to create the power to respond and to appreciate in the people.
(ब्रह्मा की सहायता करने के लिए सरस्वती ने निश्चय किया कि वह मनुष्य में प्रत्युत्तर देने और प्रशंसा करने की शक्ति पैदा
करेंगी।)


Q3: What is the importance of music and fine arts?
(संगीत तथा ललित कलाओं का क्या महत्व है?)
Ans: The importance of music and fine arts is that through them man would understood something of the
divine in his manifestation.
(संगीत तथा ललित कलाओं का महत्व है कि इनके द्वारा मनुष्य अपने संसार में दैवीय अंश को समझने लगेगा।)
Q4: Why does Saraswati want to give music to humans?
(सरस्वती मनुष्यों को संगीत क्यों देना चाहती थी?)
Ans: Saraswati wanted to give music to humans to remove the sadness of Brahma.
_ (ब्रह्मा के दुःख को दूर करने के लिए सरस्वती मनुष्यों को संगीत देना चाहती थी।)
Q5: Why did the great Muse give us music?
(कला की महान देवी ने हमें संगीत क्यों दिया?)
Ans: The great Muse gave us music so that we might respond to the beauty of universe.
(कला की महान देवी ने हमें संगीत दिया ताकि हम ब्रह्मांड की सुंदरता का प्रत्युत्तर दे सकें।)

[C] One of the basic truths……………………………………. wonderful, Tansen.”
Vocabulary:
basic truth – मौलिक सत्य
made to order – किसी की आज्ञा से होना
irresistible – जिसके सामने कोई अवरोध टिक न सके
inner—- आंतरिक
urge – प्रेरणा
gaze — एकटक देखना
enthralled – मोहित
sculptures – शिल्पकला, मूर्तिकला
thrilled – प्रफुल्लित
devotion _– ईश्वर-भक्ति
self-effacing – भुला देना, पूरी तल्लीनता
dedication – समर्पण
bard – दरबारी संगीतज्ञ
illustrates – चित्रित करता है
vividly – जीवंतता से, स्पष्टता से
particularly – विशेष रूप से
ecstasy – अत्यधिक आनंद, परम आनंद
concord— सुर-संगम
transports – पहुँचा देती है
divine regions – ईश्वरीय क्षेत्र
casta spell of – जादू डालना, मंत्र-मुग्ध करना

हिंदी अनुवाद- एक मौलिक सत्य जिस पर समस्त भारतीय कला विकसित हुई है, यह है सच्ची कला का सृजन, जो किसी के आदेशानुसार नहीं किया जा सकता; यह तो किसी अबाध आंतरिक प्रेरणा के फलस्वरूप उत्पन्न होता है। हम त्यागराज का गीत सुनते हैं और प्रफुल्लित हो जाते हैं; हम किसी मंदिर का वैभवशाली शिखर देखते हैं और उसे आश्चर्य से निहारते रह जाते हैं; हम अपनी कुछ प्राचीन मूर्तियों को देखते हैं और रोमांचित हो जाते हैं, क्यों? इन सभी कलाकृतियों के पीछे एक महान आध्यात्मिक प्रेरणा है। जिन कलाकारों ने हमें ये (कलाकृतियाँ) दी, उन्होंने अपनी पूर्ण समर्पण भावना को इन उत्तम कलाकृतियों के रूप में उड़ेल दिया है; और स्वयं को भुलाकर कार्य के साथ एकाकार हो, यह सार्थकता प्राप्त की।

तानसेन, जो अकबर के दरबार के एक महान संगीतज्ञ थे, के विषय में एक कहानी कही जाती है, जो इस तथ्य को अधिक स्पष्ट कर देती है। तानसेन एक महान संगीतकार थे और अकबर को उनके संगीत से अत्यधिक प्रेम था। एक दिन जब तानसेन विशेष रूप से अच्छा गा रहे थे, अकबर आनंद विभोर हो गए और उनसे पूछा, “इन मधुर स्वरों के समन्वय का क्या रहस्य है, जो मुझे इस संसार से ले जाकर अलौकिक जगत में पहुँचा देते हैं? मैंने किसी भी अन्य व्यक्ति से इस प्रकार का गायन नहीं
सुना है, जो मंत्र-मुग्ध कर दे और हमारे हृदयों को अपना दास बना ले। तानसेन, तुम सचमुच अद्भुत हो।”

Q1: What is the basic truth on which all Indian Art is developed?
(वह मौलिक सत्य क्या है जिस पर संपूर्ण भारतीय कला विकसित हुई है?)
Ans: All Indian art is developed on one of the basic truths that it is never made to order but it comes as a result
of an irresistible inner urge.
(संपूर्ण भारतीय कला एक मौलिक सत्य पर विकसित हुई है कि यह आदेश देने पर कभी नहीं आती बल्कि यह तो एक
अबाध आंतरिक प्रेरणा से ही आती है।)
Q2: What is behind all good works of art?
(सभी कलाकृतियों के पीछे क्या है?)

Ans: A great spritual urge is behind all good works of art.
(सभी कलाकृतियों के पीछे एक महान आध्यात्मिक प्रेरणा है।)
Q3: Explain the words, “self-effacing dedication.”
(“पूर्ण समर्पण भावना” शब्दों को स्पष्ट कीजिए।)
Ans: “Self-effacing dedication” is a feeling in which a artist pours all his devotion to perform his art.
(“पूर्ण समर्पण भावना” एक भावना है जिसमें कलाकार अपनी कला के प्रदर्शन में पूर्ण निष्ठावान हो जाता है।)

Q4: Who was Tansen?
(तानसेन कौन थे?)
Ans : Tansen was a great musician ofAkbar’s court.
(तानसेन अकबर के दरबार के एक महान संगीतकार थे।)
Q5: What was Akbar fond of ?
(अकबर किसके शौकीन थे?)
Ans : Akbar was fond of Tansen’s music.
(अकबर तानसेन के संगीत के शौकीन थे।)
Q6: What did Akbar ask Tansen one day?
(एक दिन अकबर ने तानसेन से क्या पूछा?)
Ans: One day Akbar asked Tansen, “What is the secret of this sweet concord of notes?”
(एक दिन अकबर ने तानसेन से पूछा, “इस मधुर संगीत स्वर का क्या रहस्य है?’)

[D] The great bard replied, “…………………………………. gross blunder?”
Vocabulary:
humble – तुच्छ
fraction- छोटा-सा भाग, अंश
beside-पास में, निकट
rhythmic – लयपूर्ण
expert- विशेषज्ञ
pigmy – बौना
intrigued-जिज्ञासा उत्पन्न कर दी
dwelt रहता था
deliberately – जानबूझकर
aesthetic – सौंदर्यानुभूतिपूर्ण
rude- असभ्य, गँवार Up Board Class 10 English Chapter -3 TORCH BEARERS FULL SOLUTION सम्पूर्ण पाठ का सारांश हिन्दी व अंग्रेजी में
shock सदमा
rebuked- बुरा-भला कहा
commit करना
gross blunder- बड़ी त्रुटि

हिंदी अनुवाद-महान संगीतज्ञ ने उत्तर दिया, “महाराज, मैं तो अपने गुरु स्वामी हरिदास का तुच्छ शिष्य हूँ; मैं तो अभी अपने गुरु की शैली, सौंदर्य और जादू का एक अंश-मात्र भी नहीं सीख पाया हूँ। मैं भला उनके समक्ष क्या हूँ जिनके संगीत में दैवीय सुर, सौंदर्य तथा स्वर के आकर्षण का एक लयबद्ध प्रवाह है?’ “क्या कहा?’ सम्राट चिल्ला पड़े, “क्या कोई ऐसा भी व्यक्ति है जो तुमसे अच्छा गा सकता है? क्या तुम्हारे गुरु इतने महान गायक हैं?” “मैं तो अपने गुरु की तुलना में केवल एक बौने के समान हूँ।’ तानसेन ने कहा। अकबर के मन में बड़ी जिज्ञासा पैदा हो गई. वे हरिदास का संगीत सुनना चाहते थे परंतु सम्राट होने के बावजद वे हरिदास को अपने दरबार में नहीं बुला सकते थे। अत: वे तथा तानसेन हिमालय (पर्वत) पर गए जहाँ स्वामी जी अपने आश्रम में रहते थे। तानसेन ने अकबर को पहले से ही सचेत कर दिया था कि स्वामी जी केवल तभी गाएँगे जब उनकी इच्छा होगी। वे दोनों कई दिनों तक आश्रम में ठहरे रहे परंतु स्वामी जी ने नहीं गाया। फिर एक दिन तानसेन ने एक गीत गाया, जो उन्होंने स्वामी जी से सीखा था और जानबूझकर गलत स्वर का प्रयोग किया । इसका उस संत पर झंकृत कर देने वाला प्रभाव पड़ा; उनके सौंदर्यानुभूति करने वाले स्वभाव को एक गहरा आघात लगा। वे तानसेन की और मुड़े तथा उन्हें फटकारा और कहा, “तुम्हें क्या हो गया है, तानसेन, कि मेरे शिष्य होकर तुम इतनी बड़ी गलती कर रहे हो?”


Q1: Who was the great bard, Akbar was talking to?
(महान दरबारी कौन था जिससे अकबर बात कर रहे थे?)
Ans: The great bardwas Tansen.Akbar was talking to.
(वह महान दरबारी तानसेन थे जिनसे अकबर बात कर रहे थे।)
Q2: Who was the Guru of Tansen?
(तानसेन के गुरु कौन थे?)
Ans: Swami Hari Das was the Guru of Tansen.
(तानसेन के गुरु स्वामी हरिदास थे।)
Q3: What did Akbar ask Tansen and what did Tansen reply?
(अकबर ने तानसेन से क्या पूछा और तानसेन ने क्या उत्तर दिया?)
Ans: Akbar asked, “Is there one who can sing better than you ? Is your master such a great expert?” Tansen
replied, “I am but a pigmy by my master’s side.”
(अकबर ने पूछा, “क्या कोई ऐसा भी व्यक्ति है जो तुमसे अच्छा गा सकता है? क्या तुम्हारे गुरु इतने महान गायक हैं?”
तानसेन ने उत्तर दिया, “मैं तो अपने गुरु की तुलना में एक बौने के समान हूँ।”)
Q4: What did Tansen tell Akbar about his master?
(तानसेन ने अकबर को अपने गुरु के बारे में क्या बताया?)
Ans: Tansen told Akbar about his master that his music is a rhythmic flow of Divine harmony, beauty and
charm.
(तानसेन ने अकबर को अपने गुरु के बारे में बताया कि उनका संगीत ईश्वरीय मधुरता, सौंदर्य और जादू का एक लयबद्ध
प्रवाह है।)
Q5: Why did Akbar and Tansen go to Himalayas?
(अकबर और तानसेन हिमालय क्यों गए?)
Ans: Akbar wished to hear music of Hari Das. He along with Tansen went to ashram in the Himalayas to fulfil
his wish.
(अकबर हरिदास का संगीत सुनना चाहते थे। अपनी इच्छा को पूर्ण करने के लिए वे तानसेन के साथ हिमालय में स्थित
हरिदास के आश्रम में गए।)

Q6: What warning did Tansen give to Akbar?
(तानसेन ने अकबर को क्या चेतावनी दी?)
Ans: Tansen warned Akbar that Swamiji would sing only if he wanted to.
(तानसेन ने अकबर को चेतावनी दी कि स्वामी जी केवल तभी गाएँगे जब उनकी इच्छा होगी।)
Q7: Why did Tansen deliberately sing a false note?
(तानसेन ने जानबूझकर गलत स्वर में क्यों गाया?)
Ans: Tansen deliberately sang a false note to make his Guru sing.
(तानसेन ने अपने गुरु को गाने के लिए विवश करने के लिए जानबूझकर गलत स्वर में गाना गाया।)
Q8: What did Swamijisay whilerebuking Tansen?
(स्वामी जी ने तानसेन को क्या कहा जब वे उसे फटकार रहे थे?) Ans: Swamiji said while rebuking Tansen that he did not expect his pupil to sing a song wrongly.
(स्वामी जी ने तानसेन को फटकारते हुए कहा कि उन्हें अपने शिष्य से गलत ढंग से गीत गाने की आशा नहीं थी।)

[E] He then started……………………………………………….. all the difference.”
Vocabulary:
enveloped छा गया
sheer- पूर्ण
melody लय-माधुर्य
unique chaff भूसा, बेकार
soul-stirring – आत्मा को झकझोरने वाला आदेश
prompting – अंत:प्रेरणा
innermost – हृदय की असीम गहराई Up Board Class 10 English Chapter -3 TORCH BEARERS FULL SOLUTION सम्पूर्ण पाठ के प्रश्न और उत्तर सहित, paragraph पर आधारित प्रश्न उत्तर ,

हिंदी अनुवाद- फिर उन्होंने उसी गीत के अंश को सही ढंग से गाना प्रारम्भ कर दिया; गायन की मन: स्थिति ने उन्हें आ घेरा
और उस संगीत ने उन्हें ऐसा लपेटा कि वह संगीत में स्वयं को भूल गए। उनका संगीत पृथ्वी और आकाश में फैल गया। अकबर और तानसेन भी संगीत की सहज मधुरता और जादू में स्वयं को भूल गए। यह एक अद्वितीय अनुभव था। जब संगीत रुका, अकबर तानसेन की ओर घूमे और कहा, “तुम कहते हो तुमने इस संत से संगीत सीखा और फिर भी ऐसा प्रतीत होता है कि तुम संगीत के जीवंत जादू का स्पर्श नहीं कर पाए। तुम्हारा गायन तो इस आत्मा को आंदोलित कर देने वाले (झकझोर देने वाले) संगीत की तुलना में भूसी मात्र (बेकार वस्तु) है।” “यह सत्य है, महाराज” तानसेन ने कहा, “यह सत्य है कि मेरा संगीत गुरु जी के जीवंत व मधुर संगीत की अपेक्षा काष्ठवत् व निर्जीव है। परंतु यहाँ एक अंतर है- मैं सम्राट की आज्ञा से गाता हूँ, लेकिन मेरे गुरु जी किसी मनुष्य के आदेश से नहीं गाते, वे
केवल तभी गाते हैं, जब उनके अंतर्मन से उन्हें प्रेरणा मिलती है। इस अंतर का मुख्य कारण यही है।

Q1: What made Swamiji sing?
(स्वामी जी को किसने गाने के लिए विवश कर दिया?)
Ans: Tansen’s false note made Swamiji sing.
(तानसेन के गलत स्वर ने स्वामी जी को गाने के लिए विवश कर दिया।)
Q2: What was the effect of Swami’s music on Akbar and Tansen?
(अकबर और तानसेन पर स्वामी जी के संगीत का क्या प्रभाव पड़ा?)
Ans: The effect of music was that Akbar and Tansen forgot themselves in the sheer melody and charm of the
music.
(संगीत का यह प्रभाव पड़ा कि अकबर व तानसेन संगीत में डूब गए तथा स्वयं को भी भूल गए।)
Q3: Which was the unique experience and for whom?
(अद्भुत अनुभव कौन-सा था और किसको यह अनुभव हुआ?)
Ans: Listeningto the charming music presented by Guru Hari Das was the unique experience for Akbar.
(गुरु हरिदास द्वारा प्रस्तुत मनमोहक संगीत को सुनना अकबर के लिए अद्भुत अनुभव था।)
Q4: What did Akbar say to Tansen after hearing Swami Hari Das?
(अकबर ने स्वामी हरिदास का संगीत सुनने के बाद तानसेन से क्या कहा?)
Ans: After hearing Swami Hari Das Akbar said to Tansen that his music was like chaff beside the charming
music of his master.
(स्वामी हरिदास का संगीत सुनने के बाद अकबर ने तानसेन से कहा कि उसका संगीत उसके गुरु के आकर्षक संगीत की तुलना में भूसी के समान था।)
Q5: How did Tansen explain the difference between Swami’s and his own music?
(तानसेन ने स्वामी तथा अपने संगीत के अंतर को कैसे स्पष्ट किया?)
Ans: Tansen explained that the difference between Swami’s and his own music was due to the fact that he
(Tansen) sang to the emperor’s bidding but his master sang when the prompting came from his innermost. (तानसेन ने स्पष्ट किया कि स्वामी जी तथा उसके संगीत का कारण है कि वे (तानसेन) बादशाह के आदेश पर गाते हैं जबकि उनके गुरु अपनी अंतरात्मा से प्रेरणा प्राप्त होने पर गाते हैं।)

Up Board Class 10 English Our Indian Music : Stories and Anecdotes

Up Board Class 10 English Chapter -3 TORCH BEARERS FULL SOLUTION सम्पूर्ण पाठ के प्रश्न और उत्तर सहित, paragraph पर आधारित प्रश्न उत्तर ,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top