Up Board class 10 English Poetry chapter 2 The Psalm of Life

Up Board class 10 English Poetry chapter 2 The Psalm of Life summay of poem and central idea

Up Board class 10 English Poetry chapter 2 The Psalm of Life summay of poem and central idea

central idea of the poem The Psalm of Life

(In English) ‘The Psalm of Life’is one of Longfellow’s most popular poems. It places a noble ideal before the youth of the nation. The poet tells us that life is not unreal. He does not agree with those who hold that life is an empty dream. Life is real and serious. It has a definite aim. It does not mean mere enjoyment or sorrow. It is full of struggles and difficulties. We should face them with courage and zeal. We should work hard to achieve our aim. The youngmen should be patient and hard working. They should not care for any remuneration.

Up Board class 10 English Poetry chapter 2 The Psalm of Life


(In Hindi) ‘The Psalm of Life’ लांगफैलो की सबसे अधिक प्रसिद्ध कविताओं में से एक है। यह देश के नवयुवकों के सामने जीवन का एक अन्य आदर्श रखती है। कवि हमें बताता है कि जीवन अवास्तविक नहीं है। वह उनसे सहमत नहीं है जो मानते है कि जीवन मात्र स्वप्न है। जीवन वास्तविक तथा गंभीर है। इसका निश्चित उद्देश्य है। इसका अर्थ मात्र आनंद और दुःख नहीं है। यह कठिनाइयों और संघर्षों से भरा है। हमें उनका साहस तथा उत्साह के साथ सामना करना चाहिए। हमें अपने उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए कठिन परिश्रम करना चाहिए। नवयुवकों को धैर्यवान तथा परिश्रमी होना चाहिए। उन्हें किसी पारिश्रमिक (प्रतिफल) की चिंता नहीं करनी चाहिए।

The poet says that life is real. It is not an empty dream. It does not mean mere enjoyment or sorrow. It is full of struggles and difficulties. The poet advises the youngmen to meet life and its difficulties with courage and enthusiasm. They should be patient and hard-working. They should not care for any remuneration. They have to achieve a noble ideal of life.


(कवि कहता है कि जीवन वास्तविक है। यह थोथा (खोखला )स्वप्न ही नहीं है। इसका उद्देश्य केवल आनंद और दुःख ही नहीं हैं। यह संघर्ष और कठिनाइयों से भरा हुआ है। कवि नवयुवकों को जीवन और उसकी कठिनाइयों का सामना साहस और उत्साह से करने का परामर्श देता है। उनको धैर्यवान तथा परिश्रमी होना चाहिए। उनको किसी पारिश्रमिक की चिंता नहीं करनी चाहिए। उन्हें जीवन का एक उच्च आदर्श प्राप्त करना है।)

1 thought on “Up Board class 10 English Poetry chapter 2 The Psalm of Life”

  1. Pingback: Up Board class 10 English Poetry chapter-2 The Psalm of Life हिन्दी अनुवाद तथा प्रश्न उत्तर full solution - UP Board INFO

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top