Up board news 2021

यूपी बोर्ड परीक्षा को लेकर शासन ने किया बहुत बड़ा बदलाव, अब एक केंद्र पर 800 से ज्यादा छात्र नहीं बैठ सकेंगे


उ0प्र0 शासन की ओर से बोर्ड परीक्षा 2020-21 को लेकर नई केंद्र निर्धारण नीति जारी हुई है। इसके मुताबिक एक केंद्र पर 800 विद्यार्थियों से ज्यादा नहीं बैठाया जा सकेगा।

इससे पहले यह संख्या 1200 निर्धारित की गई थी। नई नियमावली के मुताबिक हर जिले में 5-20 केंद्रों की संख्या का बढ़ना तय माना जा रहा है। पिछले वर्ष बोर्ड परीक्षा के लिए बनाए गए केंद्रों से इस बार लगभग 10 % केंद्र अधिक बनेंगे ।

अब सभी स्कूलों को अपने केंद्र में उपस्थित सभी प्रकार के संसाधनों की सूचनाएं up msp। की वेबसाइट पर अपलोड करनी होंगी। हर सुविधा के लिए निश्चित अंक निर्धारित किए गए हैं। इन अंकों से मेरिट बनेगी। मेरिट के आधार पर केंद्र तय होंगे। सभी स्कूल मेरिट में स्थान बनाने के लिए पर्याप्त संसाधन जुटाने में जुट गए हैं। इस बार कोरोना के कारण केंद्र निर्धारण के मानकों में भी परिवर्तन किया गया है। सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए दोनों पालियों में आवंटित परीक्षार्थियों की कुल संख्या कम से कम 150 और अधिक से अधिक 800 कर दी गयी है। अभी तक यह संख्या कम से कम 300 और ज्यादा से ज्यादा 1200 थी।


नई गाइडलाइन के अनुसार प्रत्येक छात्र को बैठने के लिए कम से कम 36 वर्ग फुट क्षेत्रफल का स्थान तय किया गया है। ने सभी प्रधानाचार्यों को अपने यहां उपलब्ध संसाधनों का विवरण upmsp.edu.in अपलोड करने का निर्देश दिया है।

वेबसाइट पर गलत सूचनाएं देने वाले स्कूलों को परीक्षा केंद्र की पात्रता सूची से बाहर कर दिया जाएगा। राजकीय, एडेड और वित्तविहीन विद्यालयों की अलग-अलग मेरिट सूची तैयार होगी। इंटर स्तर के विद्यालयों के लिए 20 अंक और हाईस्कूल स्तर के लिए 10 अंक होंगे। बीते वर्ष का रिजल्ट 90 फीसदी से ज्यादा होने पर 20 अंक मिलेंगे। सूचनाओं को परखने के लिए जिला स्तरीय टीम मौके पर जाकर जांच करेगी। इसकी रिपोर्ट भी वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top