Ncert solution for class 8 hindi vasant chapter 17 बाज और साँप

Ncert solution for class 8 hindi vasant chapter 17 बाज और साँप निर्मल वर्मा
Ncert solution for class 8 hindi vasant chapter 17 बाज और साँप निर्मल वर्मा

Ncert solution for class 8 hindi vasant chapter 17 बाज और साँप निर्मल वर्मा

प्रश्न 1 – घायल होने के बाद भी बाज ने यह क्यों कहा, “मुझे कोई शिकायत नहीं है?” विचार प्रकट कीजिए ।

उत्तर:– घायल होने के बाद भी बाज ने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि उसने अपनी जिंदगी को भरपूर भोगा । वह असीम आकाश में जी भरकर उड़ान भर चुका था । जब तक उसके शरीर में ताकत रही तब तक ऐसा कोई सुख नहीं बचा जिसे उसने न भोगा हो । वह अपने जीवन से पूर्णतः संतुष्ट था ।

प्रश्न 2 – बाज जिंदगी भर आकाश में ही उड़ता रहा, फिर घायल होने के बाद भी वह उड़ना क्यों चाहता था ?

उत्तर:– बाज जिंदगी भर आकाश में उड़ता रहा, उसने आकाश की असीम ऊँचाइयों को अपने पंखों से नापा । बाज साहसी था । अतः कायर की मौत नहीं मरना चाहता था । वह अंतिम क्षण तक संघर्ष करना चाहता था । वह मरने से पहले अंतिम बार आकाश में उड़ लेना चाहता था । अतः उसने इसके लिए एक अंतिम प्रयास किया भले ही वह असफल हो गया । एक और कारण यह भी है कि साँप के गुफा से भयानक दुर्गंध आ रहा था जिससे उसका दम घुट रहा था ।

प्रश्न 3 – साँप उड़ने की इच्छा को मूर्खतापूर्ण मानता था । फिर भी उसने उड़ने की कोशिश क्यों की ?

उत्तर:– साँप उड़ने कि इच्छा को मूर्खतापूर्ण मानता था । उसके लिए उड़ान और रेंगने में कोई अंतर न था । पर जब उसने आज के मन में आकाश में उड़ने के लिए तड़प देखी तब साँप को भी लगा कि इस आकाश के रहस्य का पता लगाना ही चाहिए । तब उसने भी आकाश में एक बार उड़ने की कोशिश करने का निश्चय किया ।

ALSO READ -   NCERT SOLUTION FOR CLASS 8 SOCIAL CHAPTER 3 ग्रामीण क्षेत्र पर शासन चलाना

प्रश्न 4 – बाज के लिए लहरों ने गीत क्यों गाया था ?

उत्तर:– बाज के साहसी, वीरता, एवं स्वतंत्रता प्रिय रूप को सम्मान देने के लिए लहरों ने गीत गाया था । वह साहसी और बहादूर था । उसने अपने प्राण गँवा दिए परन्तु ज़िंदगी के खतरे का सामना करने से पीछे नहीं हटा ।

प्रश्न 5 – घायल बाज को देखकर साँप हुआ होगा ?

उत्तर:– साँप का शत्रु बाज है चूँकि वो उसका आहार होता है इसलिए घायल बाज को देखकर साँप के लिए खुश स्वाभाविक था ।

कहानी से आगे


प्रश्न 6 – कहानी में से वे पंक्तियाँ चुनकर लिखिए जिनसे स्वतंत्रता की प्रेरणा मिलती हो ।

उत्तर: कहानी की स्वतंत्रता से संबंधित पंक्तियाँ:–

1 – जब तक शरीर में ताकत रही, कोई सुख ऐसा नहीं बचा जिसे न भोगा हो । दूर-दूर तक उड़ानें भरी हैं, आकाश की असीम ऊँचाइयों को अपने पंखों से नाप आया हूँ ।
2 – आह! काश, मैं सिर्फ़ एक बार आकाश में उड़ पाता ।
3 – पर वह समय दूर नहीं है, जब तुम्हारे खून की एक-एक बूंद ज़िंदगी के अंधेरे में प्रकाश फैलाएगी और साहसी, बहादुर दिलों में स्वतंत्रता और प्रकाश के लिए प्रेम पैदा करेगी ।

प्रश्न 7 – मानव ने भी हमेशा पक्षियों की तरह उड़ने की इच्छा की है । आज मनुष्य उड़ने की इच्छा किन साधनों से पूरी करता है ।

उत्तर: मानव ने आदिकाल से ही पक्षियों की तरह उड़ने की इच्छा को अपने मन में रखा है । परंतु शारीरिक असमर्थता के कारण से उड़ नहीं पा रहा था, जिसका नतीजा यह निकला कि मानव ने हवाई जहाज़ का आविष्कार कर दिखाया । आज के मनुष्य ने अपने उड़ने की इच्छा को पूरा हवाई जहाज़, हेलीकॉप्टर, गैस- बैलून इत्यादि से करता है ।

ALSO READ -   Ncert Class 11 Hindi chapter 1 kabir solution कबीर

भाषा की बात


प्रश्न 8 – कहानी में से अपनी पसंद के पाँच मुहावरे चुनकर उनका वाक्यों में प्रयोग कीजिए ।

उत्तर:–
1 – भाँप लेना – बच्चों के चेहरे को देखकर माता जी ने परीक्षा का क्या नतीजा आया होगा यह भाँप लिया ।
2 – हिम्मत बाँधना – दोस्त के आने भर से ही दौड़ के लिए प्रतीक की हिम्मत बँधी ।
3 – अंतिम साँस गिनना – घायल चिड़िया को देखकर माता जी ने स्थिति भाँप ली वे कि वो अपनी अंतिम साँस गिन रही है ।
4 – मन में आशा जागना – माँ की बात ने मेरे मन में आशा जगा दी ।
5 – प्राण हथेली में रखना – स्वतन्त्रता सेनानी ने देशवासियों की जान बचाने के लिए अपने प्राणों को हथेली में रख दिया ।

WWW.UPBOARDINFO.IN

Republic day poem in Hindi || गणतंत्र दिवस पर कविता 2023 

यूपी बोर्ड 10वीं टाइम टेबल 2023 (UP Board 10th Time Table 2023) – यूपी हाई स्कूल 2023 डेट शीट देखें

Up pre board exam 2022: जानिए कब से हो सकते हैं यूपी प्री बोर्ड एग्जाम

Amazon से शॉपिंग करें और ढेर सारी बचत करें CLICK HERE

सरकारी कर्मचारी अपनी सेलरी स्लिप Online डाउनलोड करें

Hindi to sanskrit translation | हिन्दी से संस्कृत अनुवाद 500 उदाहरण

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam-1

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: