UP Board Solution for Class 8 Sanskrit Chapter 18 एत बालका:

UP Board Solution for Class 8 Sanskrit Chapter 1 aashram आश्रमः
UP Board Solution for Class 8 Sanskrit

UP Board Solution for Class 8 Sanskrit Chapter 18 एत बालका:


प्रिय छात्रों, यहां पर हमने यूपी बोर्ड कक्षा 8 की संस्कृत पीयूषम् का हल उपलब्ध कराय दिया हैं ।। यह solutions स्टूडेंट के लिए परीक्षा में बहुत सहायक होगा | up board solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 18 एत बालका: pdf Download कैसे करे| up board solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 18 एत बालका: solution will help you. up board Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 18 एत बालका: pdf download, up board solutions for Class 8 Sanskrit All Chapter

यूपी बोर्ड कक्षा 8 Sanskrit के सभी पाठ के सभी प्रश्नों के उत्तर को विस्तार से समझाया गया है जिससे सभी छात्र सभी उत्तरों को आसानी से समझ सके | सभी प्रश्न उत्तर Latest UP board Class 8 Sanskrit syllabus के आधार पर उपलब्ध कराए गए है | यह सोलूशन हिंदी मीडियम के स्टूडेंट्स को ध्यान में रख कर तैयार किए गए है |

पाठ 18 एत बालका: पाठ का सम्पूर्ण हल

एत बालकाः ! स्वयं चलाम।
काठिन्यं दूरे करवाम ।।1।।
एत नयाम नभस्तारकम् ।
दूरे कुर्मश्चान्धकारकम् ।।2।।

हिन्दी अनुवाद – आओ बालक! स्वयं चलें, कठिनाई (परेशानी) दूर करें।
आओ! आकाश के तारे ले आएँ और अन्धकार को दूर करें।

एत पर्वतानपि परिमाम ।
शक्तिसमुदयं नैव जहाम || 3 ||

एत सागरं प्रति गच्छाम ।
जीवनकलशं ननु विभराम ।।4।।

हिन्दी अनुवाद – आओ! पर्वतों को भी नापें और एकता का त्याग न करें।
आओ! सागर की ओर चलें । जीवन रूपी कलश को मिश्रित रूप में भरें।

एतातुलितां शक्तिं लब्ध्वा,
पौरुषेण खलु भाग्यं बद्ध्वा ।
एत विदध्म तपो नवीनम्,
पूरयेम वाञ्छाकमनीयम् ||5||

हिन्दी अनुवाद – आओ! अतुलित शक्ति प्राप्त करके पुरुषार्थ से निश्चय ही भाग्य को बाँध लें ।
आओ! नवीन तप का विधान करें, इच्छित सुन्दर कामना को पूर्ण करें।

सेवामहे जनांश्च निकामम् ।
लोभं विना सुधापाः कामम् ॥16॥
एत जयेम मनांसि जनानाम्
जीवनमिह सफलं बालानाम् ||7||

हिन्दी अनुवाद – अमृतपान करने वाली कामना के अनुसार और वि- लोभ के लोगों की सेवा करें।
आओ! इस जीवन में सकल नर-नारी के मनों को जीत लें।

एत विकुर्मो भ्रान्तिसमूहम् ।
दर्शयेम नवमार्गारोहम् ॥ 8 ॥
एत मङ्गलं बहु वितरेम।
विश्वमनल्पं लघु कलयेम ||9||

हिन्दी अनुवाद – आओ! भ्रान्ति-समूह (भ्रान्तियाँ) को दूर करें ! चढ़ने का नया मार्ग दिखाएँ।
आओ! बहुत कल्याण (भलाई) करें और विश्व की कमी दूर करें।

शब्दार्थः

एत = आओ। नयाम = ले आयें। अन्धकारकम् = अंधकार को । परिमाम= नाप लें। जहाम = त्याग करें। विभराम = पूर्ण करें, भरें। अतुलिताम् = अतुलनीय, अपरिमित । लब्ध्वा = प्राप्त कर । बद्ध्वा = बाँधकर विदध्म विधान करें। पूरयेम पूर्ण करें। वाञ्छाकमनीयम् = इच्छित सुन्दर कामना को सेवामहै सेवा करें। निकामम् = पर्याप्त, यथेच्छ। सुधापाः = अमृतपान करने वाले। कामम् = कामना के अनुसार । इह = यहाँ। विकुर्मः = दूर करते हैं | दर्शयेम= दिखायें| नवमार्गारोहम् = नये मार्ग पर चलना । अनल्पम् =सम्पूर्ण | कलयेम =बनावें

एत बालका: पाठ के अभ्यास प्रश्न

प्रश्न 1 – उच्चारणं कुरुत पुस्तिकायां च लिखत
नोट – विद्यार्थी स्वयं करें।

प्रश्न 2 – एकपदेन उत्तरत
(क) काठिन्यं किं करवाम ?
उत्तर – दूरे ।

(ख) वयं किं परिमाम ?
उत्तर – पर्वतान।

(ग) किं दूरे कुर्मः ?
उत्तर – अन्धकारम् ।

(घ) किं विभराम ?
उत्तर – जीवनक्लेशं ।

प्रश्न 3 – एकवाक्येन उत्तरत
(क) काठिन्यं दूरं कर्तुं वयं किं करवाम ?
उत्तर – काटिन्यं दूरं कर्तुं वयं स्वयं चलाम।

(ख) वयं किं नैव जहाम ? |
उत्तर – वयं शक्ति समुदयं नैव जहाम।।

(ग) तपः कृत्वा किं पूरयेम ?
उत्तर – तपः कृत्वा वाञ्छाकमनीयं पूरयेम।।

(घ) भ्रान्तिसमूहं दूरं कृत्वा वयं किं दर्शयेम ?
उत्तर – भ्रान्तिसमूहं दूरं कृत्वा वयं नवमार्गारोहं दर्शयेम।

UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi काव्यांजलि Chapter 5 स्वयंवर-कथा, विश्वामित्र और जनक की भेंट (केशवदास) free pdf

प्रश्न 4- रेखांकितपदानि आधृत्य प्रश्ननिर्माणं कुरुत

(क) जनानां मनांसि जयेम।।
उत्तर – जनानां किम् जयेम?

(ख) मङ्गलं बहु वितरेम।।
उत्तर – किम् बहु वितरेम?

(ग) वयं नभस्तारकं नयाम।।
उत्तर — वयं कर्म नयाम?

प्रश्न 5 – मञ्जूषातः क्रियापदानि चित्वा रिक्तस्थानानि पूरयत (पूरा करके)
उत्तर
(क) अहं काठिन्यं दूरे करवाणि।
(ख) त्वं नभस्तारकम् नय।
(ग) सः सागरं प्रति गच्छतु।।
(घ) ते जनानां मनांसि जयन्तु।

प्रश्न 6 – संस्कृते अनुवादं कुरुत (अनुवाद करके)
(क) कठिनता को हम दूर करें।
अनुवाद – वयं काठिन्यं दूरे करवाम।।

(ख) हम सब अन्धकार को दूर करें।
अनुवाद – वयं सर्वे-अन्धकारमू दूरे कुर्म ।।

(ग) सागर की ओर चलें।
अनुवाद – सागरं प्रति गच्छाम।।

(घ) हम भ्रान्तियों को दूर करें।
अनुवाद – वयं भ्रान्तिसमूहाः दूरे कुर्म।


प्रश्न 7.
धातुः, लकारः, पुरुषं च लिखत (लिखकर) –

करवाम …… लोट लकार….. उत्तम पुरुष

नयाम……. लोट लकार ……. उत्तम पुरुष

गच्छाम ….. लोट लकार …….. उत्तम पुरुष

पूरयेत …….. लोट लकार ……… उत्तम पुरुष

WWW.UPBOARDINFO.IN

Up pre board exam 2022: जानिए कब से हो सकते हैं यूपी प्री बोर्ड एग्जाम

Amazon से शॉपिंग करें और ढेर सारी बचत करें CLICK HERE

सरकारी कर्मचारी अपनी सेलरी स्लिप डाउनलोड करें

Hindi to sanskrit translation | हिन्दी से संस्कृत अनुवाद 500 उदाहरण

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam-1

Leave a Comment

%d bloggers like this: